बीएमए चुनाव 2023 : मतदाता सूची में धांधली का आरोप, डीवीएस राघव व राजवीर दायमा समेत तीन लोगों ने चुनाव समिति से की शिकायत

NCRKhabar@Bhiwadi. भिवाड़ी मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन (बीएमए) के अगले माह होने वाले चुनाव से पहले वोटर लिस्ट में फर्जीवाड़े के आरोप लगने लगे हैं। औद्योगिक संगठन में वोटर बनाने में फर्जीवाड़ा का आरोप लगना उद्योग जगत के लिए अच्छा नहीं कहा जा सकता। बीएमए की देश के औद्योगिक संगठनों में अलग पहचान है लेकिन चुनाव जीतने के लिए वोटर लिस्ट में गलत नाम जुड़वाने से इसकी छवि पर विपरीत असर पड़ रहा है।

बीएमए के पूर्व सचिव डीवीएस राघव व राजवीर दायमा सहित तीन लोगों ने चुनाव समिति के चेयरमैन पी. के. धूत से वोटर लिस्ट में 63 लोगों के मतदाता होने को लेकर शिकायत दर्ज करवाई है। राघव के अलावा दो अन्य लोगों के शिकायत करने के बाद मतदाता सूची को अंतिम रूप देने वालों की निष्पक्षता पर सवाल उठने लगे हैं। हालांकि चेयरमैन पी के धूत ने शिकायतकर्ताओं का नाम बताने से इंकार कर दिया। उन्होंने बताया कि तीन लोगों ने 63 मतदाताओं को लेकर आपत्ति दर्ज करवाई है, जिसकी जांच की जाएगी।

उत्पादन नहीं करने वाली कंपनियां व GST No. सरेंडर करने वाले भी बन गए मतदाता

बीएमए के पूर्व सचिव डीवीएस राघव ने गत शुक्रवार को चुनाव समिति के चेयरमैन पी के धूत को पत्र लिखकर मतदाता सूची पर सवाल खड़ा किया था। राघव ने पत्र में मतदाता सूची मेज लगभग 55 से 60 मतदाताओं पर आपत्तियां दर्ज करवाई थी। उनके मुताबिक कई सदस्य केवल प्लॉट के आधार पर मतदाता बन गए हैं लेकिन प्लॉट पर उत्पादन नहीं होता है। कई मतदाता traders है तथा कई कंपनी तो अपना GST No. ही सरेंडर कर चुकी हैं लेकिन उनको मतदाता सूची में स्थान दिया गया है। राघव ने पत्र में लिखा है कि पिछले कुछ वर्षों से जो व्यक्ती विशेष BMA के महत्पूर्ण पद पर आसीन है, उनकी कम्पनी किसी तरह का ना उत्पादन करती है अपितु GST No.भी सरेंडर कर चुकी है। वहीं कुछ कंपनी 1 वर्ष से कम उत्पादन में है। राघव ने चेयरमैन पी के धूत से मतदाता सूची के सत्यापन की मांग की है।

– बीएमए की मतदाता सूची में 63 मतदाताओं को लेकर तीन लोगों ने आपत्ति दर्ज करवाई है। वह शिकायतकर्ताओं का सार्वजनिक नहीं कर सकते। चुनाव समिति शिकायत की जांच करेगी।

– पी के धूत, चेयरमैन बीएमए चुनाव समिति।

Leave a Comment

[democracy id="1"]