अलवर लोकसभा सीट पर भाजपा का कब्जा बरकरार, भाजपा प्रत्याशी भूपेंद्र यादव ने ललित यादव को 48 हजार वोट से हराया

NCRkhabar@Alwar. अलवर लोक सभा क्षेत्र (Alwar Parliamentary Area) से भाजपा प्रत्याशी भूपेंद्र यादव (Bhupendra Yadav) ने कांग्रेस प्रत्याशी ललित यादव ( Lalit Yadav) को 48 हजार 282 वोट से हराकर जीत हासिल किया। भाजपा लगातार तीसरी बार अलवर लोकसभा क्षेत्र पर काबिज होने में सफल हुई है लेकिन पिछले चुनाव के मुकाबले जीत का अंतर काफी कम रहा है। भाजपा के नवनिर्वाचित सांसद भूपेंद्र यादव के उड़ीसा में होने के बावजूद भाजपा (BJP) कार्यकर्ताओं में जीत का उत्साह ज्यादा दिखाई दिया और उन्होंने आतिशबाजी कर जीत का जश्न मनाया। सांसद भूपेंद्र यादव की तरफ से वन एवं पर्यावरण राज्यमंत्री संजय शर्मा ने निर्वाचन अधिकारी से प्रमाण पत्र लिया। उधर भिवाड़ी, टपूकड़ा, तिजारा सहित अन्य क्षेत्रों में भाजपा कार्यकर्ताओं ने आतिशबाजी कर जीत का जश्न मनाया।  मेव व यादव बहुल अलवर लोकसभा क्षेत्र से इस बार कांग्रेस ने अपना प्रत्याशी बदल दिया था और भंवर जितेंद्र सिंह की जगह मुंडावर विधायक ललित यादव को टिकट दिया था लेकिन फिर भी कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा। अलवर से भाजपा प्रत्याशी भूपेंद्र यादव को 6,24, 610 वोट प्राप्त हुए हैं जबकि कांग्रेस प्रत्याशी ललित यादव को 5,75, 964 वोट मिले हैं। यहां बता दें कि इस सीट पर लोकसभा चुनाव 2019 में बालकनाथ योगी ने कांग्रेस के प्रत्याशी भंवर जितेंद्र को 3 लाख 29 हजार 971 वोट से हराया था। इस साल हुए चुनाव में भाजपा की तरफ से केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव व कांग्रेस की ओर से ललित यादव के बीच कड़ा मुकाबला था। 

 

 2019 में बाबा बालकनाथ को मिली थी 3 लाख से ज्यादा वोटों से जीत

लोकसभा चुनाव 2019 के परिणाम में अलवर सीट से बीजेपी के प्रत्याशी बालकनाथ योगी ने कांग्रेस के प्रत्याशी भंवर जितेंद्र को 3 लाख 29 हजार 971 वोट के बड़े अंतर से हराया था। बालकनाथ योगी को 7,60,201 वोट मिले थे, जबकि कांग्रेस के भंवर जितेंद्र को 4,30,230 वोट मिले थे। वहीं 2014 में मंहत चांदनाथ योगी ने कांग्रेस प्रत्याशी भंवर जितेंद्र को हराया था।

 अलवर में नाथ संप्रदाय का है खासा प्रभाव

 

अलवर लोकसभा क्षेत्र में नाथ संप्रदाय का भी खासा प्रभाव है और 2014 में नाथ संप्रदाय के महंत चांदनाथ सांसद रह चुके हैं। महंत चांदनाथ के निधन के बाद बीजेपी ने यहां से उनके शिष्य बाबा बालकनाथ को उनकी जगह उम्मीदवार बनाया गया, जिन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी भंवर जितेंद्र सिंह को भारी अंतर से हराया। पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव में सांसद बालकनाथ को भाजपा ने मेव बहुल तिजारा विधानसभा क्षेत्र से प्रत्याशी बनाया और यह सीट देशभर में चर्चित रही। बाबा बालकनाथ ने कड़े संघर्ष में कांग्रेस प्रत्याशी ईमरान खान को हराकर विधान सभा मे प्रवेश किया।  एक समय मे बाबा बालकनाथ मुख्यमंत्री पद के प्रमुख दावेदार थे लेकिन भजनलाल शर्मा को मुख्यमंत्री बनाया गया और बालकनाथ को मंत्री भी नहीँ बनाया गया।।

अलवर लोकसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी भूपेंद्र यादव के निर्वाचित होने के बाद उनकी अनुपस्थिति में जीत का प्रमाण पत्र लेते।अलवर शहर विधायक एवं वन व पर्यावरण राज्य मंत्री संजय शर्मा व एक-दूसरे का मुंह मीठा करवाते भाजपा कार्यकर्ता।

 

Leave a Comment