दिल्ली में तैनात सीआरपीएफ महिला कांस्टेबल ने प्रेमी के साथ मिलकर किया पति का मर्डर, महिला व उसका प्रेमी गिरफ्तार

 

NCRKhabar@ Delhi. दिल्ली के द्वारका सेक्टर आठ मेट्रो स्टेशन पर तैनात केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) की महिला कांस्टेबल ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर  पति को बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया। महिला राजस्थान के भरतपुर जिले के नरेना चौथ गांव की रहने वाली है। राजस्थान पुलिस ने इस मामले में हत्यारोपी पत्नि नव उसके प्रेमी को गिरफ्तार कर लिया है। महिला कांस्टेबल तीन बच्चों की मां है जबकि उसका प्रेमी भी शादीशुदा और बच्चों का बाप है। बहरहाल भरतपुर पुलिस ने पोस्टमार्टम करा शव परिजनों को सौंप दिया तथा आरोपियों से पूछताछ कर रही है।

 

यह है हत्या का पूरा मामला

इस हत्याकांड के दोनों आरोपी सीआरपीएफ में कांस्टेबल हैं। पति की हत्या करने वाली पूनम जाट सीआरपीएफ में कांस्टेबल है। पूनम जाट की शादी तेरह साल पहले 2010 में भरतपुर जिले के नरेना चौथ निवासी संजय के साथ हुई थी। पूनम का सीआरपीएफ में कांस्टेबल रामप्रताप गुर्जर के साथ अफेयर चल रहा था। कांस्टेबल रामप्रताप की पोस्टिंग नागालैंड में है।  इन दोनों ने प्रेम संबन्ध में बाधा बनने वाले संजय जाट को रास्ते से हटाने की साजिश रची और पूनम ने साजिश के तहत पति संजय को दिल्ली बुलाया। गत 31 जुलाई की सुबह को पत्नी से मिलने के लिए संजय सुबह दिल्ली के लिए रवाना हो गया और उसके दिल्ली पहुंचने पर वहां पहले से ही मौके पर मौजूद पत्नि पूनम और उसके प्रेमी रामप्रताप गुर्जर ने मिलकर संजय की हत्या कर दी। इसके बाद पूनम व उसका प्रेमी रामप्रताप दोनों मृतक संजय के शव को लेकर दिल्ली से बानसूर पहुंचे तथा बाईपास रोड पर विवेकानंद पब्लिक स्कूल के पीछे खाली पड़े प्लाट में दफना दिया। इसके बाद यहां से चले गए।

तीन बच्चों की मां है महिला कांस्टेबल, दो बच्चों का पिता है प्रेमी

मृतक संजय और शादी साल 2010 में उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले के रायपुर गांव निवासी पूनम से हुई थी। पूनम तकरीबन ढाई साल से दिल्ली के द्वारका सेक्टर 8 में मेट्रो स्टेशन पर तैनात है। पूनम और संजय के एक बेटी व दो बेटे हैं, जिसमें बेटी की उम्र बारह साल है जबकि आठ व पांच साल की उम्र के बेटे हैं। पूनम का प्रेमी रामप्रताप भी शादीशुदा है और उसके भी दो बच्चे हैं।

परिजनों ने पत्नि और उसके प्रेमी पर जताया था शक

संजय हत्याकांड का खुलासा उस वक़्त हुआ, जब परिजनों ने मृतक संजय को फोन को किया, लेकिन उसका फोन बंद मिला। इसके बाद परिजनों ने पूनम से संजय के बारे में पूछा तो उसने बताया कि वह दिल्ली आया ही नहीं है। इसके बाद रिश्तेदारों और घर वालों ने संजय की तलाश शुरू कर दी तथा उसके नहीं मिलने पर परिजनों ने भरतपुर जिले के खोह पुलिस थाने में गत 4 अगस्त को संजय की गुमशुदगी का मामला दर्ज कराया। परिजनों ने पूनम व उसके प्रेमी रामप्रताप पर संजय की हत्या करने का शक जताया। मृतक के पिता मनीराम ने बताया कि आखिरी बार संजय से 31 जुलाई को शाम 5 बजे फोन पर बात हुई थी, तो उसने बताया था कि वह मेट्रो में बैठा है तथा पूनम के पास पहुंच कर बात करने की बात कही लेकिन इसके बाद से कोई पता नहीं चला।

पूनम के घर नहीं आने से गहराया शक

मृतक के पिता मनीराम ने बताया कि संजय के गायब होने के बाद उन्होंने पूनम को छुट्टी लेकर घर आने के लिए कहा तो उसने कहा की छुट्टी नहीं मिल रही है। अभी कुछ दिन बाद छुट्टी मिलने पर वह घर आएगी। पूनम के इस इनकार के बाद उनका शक और गहरा हो गया। खोह थाने में मामला दर्ज होने के बाद पुलिस ने आरोपी सीआरपीएफ कांस्टेबल पूनम और उसके प्रेमी रामप्रताप को हिरासत में ले लिया लेकर पूछताछ किया तो दोनों ने संजय की हत्या करने की बात कबूल कर लिया। आरोपी रामप्रताप के निशानदेही पर पुलिस ने शव को बाहर निकाल कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. फिलहाल पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर उनसे पूछताछ कर रही है।

Leave a Comment

[democracy id="1"]