खैरथल-तिजारा होगा नया जिला, भिवाड़ी में यथावत रहेंगे एसपी समेत अन्य जिला स्तरीय कार्यालय

NCRKhabar@Bhiwadi. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने शुक्रवार को 19 नए जिले बनाने का नोटिफिकेशन जारी कर दिया। मुख्यमंत्री ने केबिनेट की बैठक के बाद खैरथल के साथ तिजारा नाम जोड़कर खैरथल-तिजारा नाम घोषित कर दिया है और जिला मुख्यालय खैरथल में रहेगा लेकिन भिवाडी मुख्यालय पर वर्तमान में स्थापित जिला स्तरीय कार्यालय यथा पुलिस अधीक्षक, जिला परिवहन अधिकारी, जिला उद्योग केन्द्र आदि यथावत कार्य करते रहेंगे। इसके बाद भिवाड़ी से जिला स्तरीय कार्यालयों के खैरथल जाने को लेकर चल रही कवायद खत्म हो गई है।
नए जिले में होंगे पांच उपखण्ड व सात तहसील
अलवर जिले के विभाजन के बाद नए बनने वाले खैरथल-तिजारा जिले में पांच उपखण्ड व सात तहसील शामिल की गई हैं। जिले में टपूकड़ा, तिजारा, किशनगढ़ बॉस, कोटकासिम व मुंडावर उपखण्ड शामिल किए गए हैं। यहां बता दें कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अलवर जिले में से बहरोड़ व खैरथल को नया जिला बनाने की घोषणा किया था, जिसका भारी विरोध हुआ था। भिवाड़ी के लोगों का कहना था कि यहां से सरकार को सबसे ज़्यादा राजस्व मिलता है तथा यहां पर एसपी व एडीएम व डीटीओ के अलावा कई जिला स्तरीय कार्यालय मौजूद होने के बावजूद खैरथल को जिला बना दिया गया।
भिवाड़ी मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह चौहान ने कहा कि भिवाड़ी को जिला बनाने की मांग की जा रही थी लेकिन खैरथल-तिजारा के नाम से नया जिला बना दिया गया है। उनकी मांग है कि भिवाड़ी में मौजूद एसपी कार्यालय समेत अन्य जिला स्तरीय कार्यालय यथावत यहीं रहना चाहिए। वहीं खुशखेड़ा कारोली इंडस्ट्रियल एसोसिएशन (केकेआईए) के अध्यक्ष प्रदीप दायमा ने कहा कि भिवाड़ी को जिला बनाने की उनकी मांग जारी रहेगी। भिवाड़ी राजस्थान का सर्वाधिक राजस्व देने वाला औद्योगिक क्षेत्र है और जिला बनने के सभी मापदंडों को पूरा करता था। उनकी सरकार से मांग है कि भिवाड़ी में एसपी कार्यालय समेत अन्य जिला स्तरीय कार्यालय यथावत रखे जाएं तथा बजट के दौरान घोषित किए गए जयपुर डिस्कॉम के अधीक्षण अभियंता कार्यालय को भिवाड़ी में जल्द से जल्द खोला जाए, जिससे बिजली संबन्धी समस्या का यहीं पर समाधान हो सके

Leave a Comment

[democracy id="1"]